Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways View Content in Hindi
View Content in English
National Emblem of India

हम जो हैं

उत्पाद विवरण

विभाग

प्रेषण

समाचार और सूचना

निविदा सूचना

अवकाश गृह

हमें संपर्क करें

 What's New  »

 

    

1980 के दशक तक भारतीय रेल पहियों और धुरों की आवश्यकता के 55% के बारे में आयात किया गया था.स्वदेशी क्षमता टाटा आयरन ऐंड स्टील कंपनी [टिस्को] और दुर्गापुर इस्पात संयंत्र [डीएसपी] में ही उपलब्ध था.टिस्को संयंत्र रोलिंग स्टॉक और उत्पादन के नए डिजाइन के लिए और पहियों धुरों की बदलती जरूरतों को पूरा किया गया बंद का तकनीकी रूप से सक्षम नहीं था.डीएसपी केवल आंशिक रूप से भारतीय रेलवे की जरूरतों को पूरा करने में सक्षम था. आयात की लागत की कीमतें विश्व बाजार में बढ़ती के साथ उच्च गया था.आयात के वित्त पोषण,आपूर्ति और विदेशी मुद्रा की सीमित उपलब्धता में देरी पर प्रतिकूल वैगन उत्पादन और रोलिंग स्टॉक रखरखाव प्रभावित होते हैं.इसी संदर्भ में था कि 1970 के दशक में रेलवे मंत्रालय ने आयात विकल्प के रूप में स्टॉक पहियों और धुरों रोलिंग के निर्माण के लिए एक नई विशिष्ट उत्पादन इकाई स्थापित करने के लिए आवश्यकता महसूस हुई.अंतिम उद्देश्य था कि डीएसपी और रेल व्हील फैक्ट्री [आरडब्ल्यूएफ,पूर्व व्हील और एक्सल प्लांट] पूरी तरह से मानक पहियों और इतनी है कि उनके आयात रोका जा सकता है धुरों के लिए भारतीय रेल की आवश्यकता को पूरा करने में सक्षम होना चाहिए. more....

 start प्रेस विज्ञप्तियां   stop 
 start सक्रिय निविदायें   stop 
Public Grievances, External link opens in new window
National Portal of India, External link opens in new window
Last updated on: 03-12-2022

Click here for filling Coach
& Loco production data
No. of Visitors: 9108015

InnoRail 2022 from 17.11.2022 to 19.11.2022 at RDSO
  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.